Featured Post

Thursday, March 2, 2017

Wednesday, February 22, 2017


                                       

न नौकरी बापू की , न माँ का श्रृंगार…
न धुले हुए चेहरे , न फूलों वाली फ्रॉक…
न साइकिल ,न झूले , न चटपटे स्वाद…
हर फूल गुलिस्तां का सरताज़ नहीं होता…
बचपन खिलौनों का मोहताज़ नहीं होता…
- लवीना रस्तोगी
 —